Tuesday, January 16, 2018

Current GK February 2018 Part-1


1 January

1-      1 जनवरी, 1995 को स्वीटजरलैंड में विश्व व्यापार संगठन (WTO) की स्थापना हुई थी

2-      1 जनवरी, 1894 को kolkata में महान भारतीय वैज्ञानिक सत्येन्द्र नाथ बोस का जन्म हुआ था, जिन्हें quantum physics में योगदान के लिए जाना जाता है।

3-      अरुणाचल पदेश खुले में शौच से मुक्त होने वाला पूर्वोत्तर का दूसरा राज्य बन गया है।

2 January

1-      2 January, 1959 को सोवियत संघ (रूस) ने लूना-1 अंतरिक्षयान launch किया था, जो चंद्रमा के नजदीक पहुंचने वाला पहला यान था

2-      गीता का शायरी में अनुवाद कर ‘उर्दू शायरी में गीता’ शीर्षक से किताब लिखने वाले और शायर अनवर जलालपुरी का 70 साल की उम्र में निधन हो गया।

3-      2 जनवरी, 1954 को देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ अस्तित्व में आया था।

4-      निशानेबाज शहजर रिजवी ने वायुसेना का प्रतिनिधित्व करते हुए 61वीं राष्ट्रीय शूटिंग championship की 10 मीटर पिस्टल स्पर्धा के फाइनल में 241.7 अंक अर्जित कर national रिकॉर्ड score के साथ स्वर्ण पदक जीत लिया है।

5-      केंद्र सरकार ने 1981 batch के विदेश सेवा के अधिकारी और चीन में भारत के राजदूत रहे विजय केशव गोखले को देश का नया विदेश सचिव नियुक्त किया है।

6-      सलिल पारेख (53) ने आईटी company infosys के सीईओ का पदभार संभाल लिया।

3 January

1-      संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में 6 देश इक्वेटोरियल गिनी (भूमध्यरेखीय गिनी), आइवोरी कोस्ट, कुवैत,पेरू,पोलैंड और नीदरलैंड अस्थाई सदस्य के तौर पर औपचारिक रूप से शामिल हो गये है

2-      3 जनवरी, 1831 को नायगांव (महाराष्ट्र) में सावित्रीबाई फुले का जन्म हुआ था।

3-      सरकार ने रॉ के पूर्व प्रमुख राजिंदर खन्ना को उप-राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार नियुक्त किया है।

4 January

1-      आज ही के दिन जन्मे पंजाबी गायक गुरदास मान को उनके गाने ‘हीर’ के लिए 2006 में बेस्ट मेल प्लेबैक सिंगर का national award मिला था

2-      4 जनवरी, 1643 को महान वैज्ञानिक आईजैक न्यूटन का जन्म ब्रिटेन में हुआ था, जिन्होंने गुरुत्वाकर्षण नियम और गति के सिद्धांतों की खोज की थी।

3-      4 जनवरी, 1809 को कॉपवरी (फ़्रांस) में शिक्षाविद लुइ ब्रेल का जन्म हुआ था जिन्होंने दृष्टिबाधितों के लिए लिखने और पढ़ने की प्रणाली ‘ब्रेल लिपि’ का विकास किया था।

5 January

1-      पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपने जन्मदिन पर खुद बनाया राज्य का लोगो जारी किया

2-      दिल्ली डेयरडेविल्स फ्रेंचाइजी ने आईपीएल के 11वें सीजन के लिए पूर्व आस्ट्रेलियाई कप्तान रिकी पॉन्टिंग को team का मुख्य coach बनाया है।

3-      5 जनवरी, 1914 को फोर्ड मोटर company के प्रमुख हेनरी फोर्ड ने कर्मचारियों के लिए न्यूनतम दैनिक वेतन $5 (अब Rs315) और काम करने की अवधि 8 घंटे/प्रतिदिन निर्धारित की थी।

4-      ब्रिसबेन team के बल्लेबाज क्रिस लिन ने पर्थ के खिलाफ एक match में आस्ट्रेलियाई टी-20 बिग बैश लीग में 100 छक्के लगाने वाले पहले खिलाड़ी बन गये।

6 January

1-      अमेरिकी अविष्कारक सैमुअल मोरसे ने 16 जनवरी 1838 को पहली बार इलेक्ट्रिक टेलीग्राफ टेक्नोलॉजी न्यू जर्सी में प्रदर्शित की थी

7 January

1-      अभिनेता श्री वल्लभ व्यास (60) का लम्बी बीमारी के बाद जयपुर में निधन हो गया

2-      1,220 करोड़ में लिवरपूल football club से स्पैनिश football club बार्सलोना में शामिल होने के बाद फिलिप कोटिन्हो दुनिया के दूसरे सबसे महंगे फुटबॉलर बन गये है।

3-      7 जनवरी, 1789 को अमेरिका में पहली बार राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव हुआ था, जिसमें वोट डालने का अधिकार सिर्फ सम्पत्ति रखने वाले श्वेतों को दिया गया था।

4-      रियो ओलंपिक की रजत पदक विजेता भारतीय शटलर पी.वी.सिंधु ने प्रीमियर बैंडमिन्टन लीग में विश्व नंबर 1 ताई जू यिंग को मात दी है।

5-      इंग्लैंड के बल्लेबाज एलिस्टर कुक ऐशेज के आखिरी टेस्ट के चौथे दिन सचिन तेंदुलकर को पछाडकर टेस्ट cricket में 12,000 रन बनाने वाले सबसे युवा खिलाड़ी बन गये है।

8 January

1-      ऑस्कर विजेता संगीतकार ए.आर.रहमान को सिक्किम का पहला ब्रैंड एम्बेसडर घोषित किया गया

2-      अर्जेन्टीना की 17 वर्षीय ऐब्रिल लोरेनजती ने 1.52 मीटर (करीब 5 फुट) लम्बे बालों के साथ सबसे लम्बे बालों वाली किशोरी का गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया है

3-      ब्रिटिश ब्रांडकांस्टिंग कारपोरेशन (BBC) की चीन में सम्पादक कैरी ग्रेसी ने संसथान में पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं को कम वेतन दिए जाने को लेकर अपने पद से इस्तीफा दे दिया है।

4-      75वें गोल्डन ग्लोब अवार्ड में black comedy film ‘थ्री बिलबोर्ड्स आउटसाइड्सएबिंग, मिसौरी’ ने ड्रामा केटेगरी में बेस्ट मोशन पिक्चर का award जीता।

5-      8 जनवरी, 1942 को जन्मे भौतिकशास्त्री स्टीफन होंकिग ‘एएलएस सिंड्रोम’ से पीड़ित है जिसमें वोकल नर्वस सिस्टम और संवाद की क्षमता समाप्त हो जाती है।

9 January

1-      श्रीलंकाई cricket board ने all-rounder एंजेलो मैथ्यूज को दोबारा टी-20 और वनडे team का कप्तान नियुक्त किया है

2-      अमेरिकी टेक company apple के सह-संस्थापक स्टीव जॉब्स ने 9 जनवरी 2007 को पहला आईफोन पेश किया था।

3-      9 जनवरी, 1922 को रायपुर (अब पाकिस्तान) में नोबेल पुरस्कार विजेता वैज्ञानिक हरगोबिन्द खुराना का जन्म हुआ था।

4-      स्वघोषित गणराज्य सोमालीलैंड के इतिहास में पहली बार बलात्कार के खिलाफ कानून बना है जिसके तहत बलात्कार के दोषी को 30 साल जेल की सजा हो सकती है।

5-      तुर्की में हुई एक स्कीइंग स्पर्धा में आंचल ठाकुर ने कांस्य पदक जीतने के साथ पहली बार किसी अंतर्राष्ट्रीय स्कीइंग स्पर्धा में भारत को पदक दिलाया।

10 January

1-      देश में सभी महिला कर्मचारी वाले एकमात्र रेलवे स्टेशन मांटुगा (मुंबई) को इस उपलब्धि के लिए लिम्का बुक ऑफ़ रिकार्ड्स 2018 में शामिल किया गया है

2-      तिरुवनंतपुरम (केरल) स्थित विक्रम साराभाई अन्तरिक्ष केंद्र के निदेशक और 104 सैटलाइट भेजने की विशेषज्ञता रखने वाले डॉ.के.सिवन को भारतीय अन्तरिक्ष अनुसन्धान संगठन का नया chairmen नियुक्त किया गया है।

3-      यूके (यूनाइटेड किंगडम) की प्रधानमंत्री टेरीसा मे ने infosys के संस्थापक एन. आर.नारायणमूर्ति के दामाद ऋषि सुनक को अपने मंत्रिमंडल में शामिल किया है।

4-      BMW की M5 सेडान ने सर्कुलर ट्रैक पर  8 घंटे तक ड्रिफ्ट (गाड़ी के मुड़ने की विपरीत दिशा में पहियों का खिसकना) करते हुए सर्वाधिक 373 किलोमीटर की दुरी तय कर गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया है।

5-      10 जनवरी को विश्व हिंदी दिवस मनाया जाता है क्योंकि साल 2006 में तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने इसी दिन को प्रति वर्ष हिंदी दिवस के रूप में मनाये जाने की घोषणा की थी।

6-      10 जनवरी, 1863 को लन्दन में दुनिया की पहली अंडरग्राउंड ट्रेन सर्विस शुरू हुई थी।


7-      भोपाल जंक्शन सैनिटरी नैपकिन वेंडिंग मशीन लगाने वाला देश का पहला रेलवे स्टेशन बन गया है।





                           Current GK January 2018 Part-3





Friday, January 12, 2018

कुछ भ्रांतियां जो हमें Meditation से रोकती है.

Meditation
.

हम दिन-ब-दिन smart हो रहे है। इसलिए smartphone की तरह हमारी battery भी जल्दी खत्म हो जाती है। थोड़ा सा खुद को इस्तेमाल किया कि battery खत्म। नतीजा आलस, थकान और बोरियत। यह जानते हुए भी कि ध्यान रुपी charger से तन और मन की battery charge होती है, कुछ भ्रांतियां है, जो हमे ध्यान करने से रोकती है। आईये जानते है...

देर से होता है असर

यह सही है कि लम्बे समय के अभ्यास के बाद ध्यान करने की कुशलता बढ़ जाती है, पर body पर इसका सकारात्मक असर जल्द ही दिखाई देने लगता है। हॉवर्ड university और मेसाचुसेट्स जनरल hospital के एक संयुक्त study में आठ सप्ताह तक ध्यान के नियमित अभ्यास से मरीजों में बेचैनी, अनिद्रा, immune system, tension और रक्तचाप के स्तर पर सुधार देखने को मिला।

कठिन है Meditation

अधिकतर लोग ध्यान को जटिल मानकर इसे ऋषि-मुनियों तक सीमित करके देखते है, जबकि किसी अनुभवी मार्गदर्शक से सीखने के बाद यह एक सहज और मनोरंजक क्रिया बन जाती है। ओशो कहते है,’सहज मुद्रा में मौन बैठकर अपने विचारों के देखने से आसान काम कौन सा हो सकता है। अपने विचारो को रोके नही, उन्हें देखे। सिर्फ देखे, अच्छे-बुरे का लेबल न लगायें। यह किसी धर्म विशेष की नही, आंतरिक शांति को पाने की प्रक्रिया है। जब आप कहते है कि मैं दिमाग नही हूँ केवल दर्शक हूँ, उस क्षण कई हैरान करने वाले अनुभव होते है।

दिमाग शांत नही होता

यदि कहा जाए कि आँखे बंद करके उछलते हुए किसी बन्दर को छोड़कर किसी भी चीज पर सोचें, तो मन बार-बार बन्दर की ओर ही भटकता है। विचार, ध्यान के दुश्मन नही है। आचार्य महाप्रज्ञ कहते है,’विचारों को आने से रोका ही नही जा सकता। ध्यान के दौरान विचार आने और उससे मुक्त होने की प्रक्रिया चलती रहती है। धीरे-धीरे अभ्यास के बाद विचार से मुक्त होने का space बढ़ जाता है। भटकते हुए मन को आप श्वास, किसी छवि या मंत्र का स्मरण कर पकड़ने की कोशिश करते है। मन, वचन और काया की एकरूपता ध्यान है। यदि ध्यान में पूरे समय मन भटकता है, तो भी मौन और काया की स्थिरता का लाभ मिलता है। आप अपने उन विचारों को देख पाते है, जिनसे अनजान थे। अपने अहं, क्रोध, लोभ या करुणा के भावों के देख पाना भी कम बड़ी उपलब्धि नही है।

कोई चमत्कार तो हुआ नही

आधुनिक गुरु दीपक चोपड़ा के अनुसार,’ अक्सर लोग complain करते है कि उन्हें कोई खास रंग या कोई मोहक छवि नही दिखी। कोई जादुई अनुभव नही हुआ। यह सही है कि ध्यान में कई तरह के अनुभव होते है, पर चमत्कारिक अनुभव ध्यान का उद्देश्य नही है। ध्यान आराम और सतर्कता का मेल है। ध्यान का असली अनुभव ध्यान के बाद होता है, जब रोज के तमाम कार्यो के बीच एक आंतरिक मौन, आनन्द व् स्थिरता हमारे साथ बने रहते है। ध्यान में इन बातों का ख्याल रखे-

बिना किसी अपेक्षा के ध्यान करे।

कई बार मन बेहद active होता है, तो कई बार तुरंत शांत हो जाता है। कई बार अच्छा लगता है, तो कई बार कुछ अनुभव नही होता। खुद को सहज रखें।

phone बंद कर दें। शांत वातावरण में ध्यान करे।

समय नही है

famous anchor ओप्रा विन्फ्री कहती है,’ ध्यान के लिए समय से अधिक इच्छाशक्ति की जरूरत होती है। मैं हर रोज कम से कम एक बार 20 minute ट्रांसंडेटल मेडिटेशन करती हूँ। हममे खुद को recharge करने की अद्दुत शक्ति है। ध्यान से मन शांत और एकाग्र होता है। हमारी कार्यकुशलता बढ़ती है। और हम समय का बेहतर उपयोग कर पाते है।








Thursday, January 11, 2018

अनिश्चितता (Uncertainty) में Life को जीने का सलीका

Uncertainty


सुरक्षित दायरे से बाहर निकलना मुश्किल होता है। पर निश्चित को छोड़ने या छूट जाने का अर्थ यह नही कि हम अनिश्चितता की ओर जा रहे है। यह असीम ज्ञान और संभावनाओ की राह भी है, जिसे accept करना life जीने का सही सलीका है।

अपने medical career की शुरुआत में, मैं स्पष्ट रूप से यह जानता था कि क्या कर रहा हूँ। किस दिशा में आगे बढ़ रहा हूँ। मुझे medicine से प्यार था। मेरा future संभावनाओ से भरा हुआ हुआ था। मुझे पता था कि जिस महिला से मैं प्यार करता हूँ, उससे शादी करके america चला जाऊंगा। तब तक यह सोचा ही नही था कि life की अनिश्चितता क्या होती है और किस तरह यह एक व्यक्ति के life पर असर डाल सकती है।

विशेष तौर पर मैं यह सोचता था कि सुरक्षा मेरी मित्र है और अनिश्चितता दुश्मन। काश, आज की तरह उस समय भी मैं यह जानता कि अनिश्चितता में ज्ञान होता है, जो अदृष्ट दरवाजों को खोलता है और यही अज्ञात तत्व life को निरंतर नयापन दे सकता है। अधिकतर सभी की तरह मैं भी अप्रत्याशित घटनाओं और बदलाओं से बेचैन हो जाता था। मैं इस बात के लिए कतई तैयार नही था कि मेरी fellowship रोक दी जाएगी। या मेरी इच्छित medical विशेषज्ञता को अस्वीकार कर दिया जायेगा। या फिर मुझे मेरे life के संबल पत्नी और बच्चे से अलग होना पड़ेगा। या मुझे एक भारतीय होने के कारण अलग नजर से देखा जायेगा। बहुत वर्षो के बाद जब तन और मन के सम्बन्ध को समझा, तब जाना कि मैं खुद को उन मूर्खतापूर्ण और तीखे हमलों से कैसे बचा सकता था।

यह समझा जा सकता है कि मैं उन बुरी स्थितियों से निकलना चाहता था और मैंने स्थिरता को चुना। हालाँकि आज समझ सकता हूँ कि यह कितना घातक हो सकता था। अनिश्चितता के ज्ञान का पहला principle है कि हर चीज व् घटना के पीछे एक मकसद होता है। हालाँकि अब यह एक मुहावरा सा बन गया है, पर भारतीय वैदिक परम्परा में इसका गहराई से analysis किया गया है।
imagine करे कि आपके हाथ में एक अदृश्य धागा है, जिसे आपको आजीवन पकड़े रखना है। यह धागा आपकी life line है, जो आपको वहा ले जायेगा, जहां आपको सम्पूर्ण संतुष्टि हासिल करने के लिए जाने की जरूरत है। वहां नही, जहां आपको मन, आपके डर, आपकी अपेक्षाएं और आपकी असुरक्षा लेना जाना चाहते है। भारत में इस धागे को धर्म कहते है, जिसका अर्थ है, धारण करना। दुसरे शब्दों में, यह अदृश्य धागा भले ही नाजुक प्रतीत हो, यह आपको सर्वश्रेष्ठ दिशा की ओर ले जाने में मार्गदर्शक की भूमिका निभाएगा। अदृश्य होने के कारण इसके रास्ते पर अप्रत्याशित व् आशातीत प्रतीत होते है, लेकिन जहां अनिश्चितता है, वहां ज्ञान भी छिपा होता है।

life जीने का सर्वश्रेष्ठ तरीका है कि अनिश्चितताओं में छिपे ज्ञान को गले लगायें। पर यह बात तब नही पता थी जब मै 22 वर्ष का था। प्रश्न होगा कि यह कैसे किया जा सकता है? इसके लिए आप खुद को इन बातों से जोड़ें...

अपने दिल के जज्बात, life का सर्वोच्च purpose, व्यापक दृष्टिकोण की समझ, दूसरो के साथ समानुभूति, सेवा कार्यो की इच्छा, खुद को universal में अद्दितीय देख पाने की समझ, स्वयं को खुशहाल और संतुष्टि हासिल करने का अधिकारी मानना।

इन बातों से खुद को जोड़ना शुरू करें। ये गुण प्रत्येक में हैं। इन्हे अपनाकर आप अपने उन tension, दबाव, असुरक्षा और संदेहों से मुक्त हो सकते है, जो आपकों बढ़ने नही देते। यह उलझाव कितने ही तरीकों से हो सकता है। कभी-कभी यह जानते हुए भी कि कोई चीज आपके लिए ideal नही है या फिर आप क्या चाहते है, आप कम से समझौता करते है। उदासीन स्वीकृति देते है या उन राय व् मूल्यों को अपनाते है, जो आपके नही, दूसरो के बनाये हुए है। और कई बार यह बात बड़ी देर से समझ आती है कि हम पीड़ित है और स्थितियों की कठपुतली बनकर रह गये है।

यदि मैं 22 का होता, इसका अर्थ यह नही है कि life में ये problem खत्म हो जाएगी। युवावस्था में स्वतंत्र होने की प्रबल इच्छा होती है। असंतुष्टि की भावना आदर्शवाद के ईधन से पोषित हो रही होती है। लेकिन यदि आप जागरूक रहते हुए खुद को अपने स्वभाव की सर्वश्रेष्ठता से जोडकर रखते है, तो उस अदृश्य धागे को मजबूती से पकड़े रहते है। दुनियाभर की ज्ञान परम्पराओं ने यह माना है कि धर्म वास्तविक है और इस पर विश्वास किया जा सकता है। अनिश्चितताओं से भयभीत होने की जरूरत नही। यह एक मुकम्मल अनिवार्यता है, यदि आप सदियों से चली आ रही प्रक्रिया को जानना समझना चाहते है, जिसे हम ज्ञान की शरुआत कहते है।



# इस article के writer ‘दीपक चोपड़ा’ international famous भारतीय मूल के अमेरिकी writer, modern motivational गुरु व् फिजीशियन। इनकी 75 से अधिक books प्रकाशित हो चुकी है।





                               Why Not Happy (सुखी क्यों नही)

Tuesday, January 9, 2018

Blog पर Post करने के 12 बातें



1-  Post के मुख्य बिंदु

post में देखें कि इसमे वे जरूरी keywords शामिल है, जिन्हें टाइप करते ही वे search की पकड़ में आ जाएँ। इसके अलावा google adwords की मुफ्त प्रमुख चयन प्रणाली सेवा का लाभ ले। post के शीर्षक को आकर्षक भी बनाएं।

2-  Social Media

अपने blog को RSS feed से लैस करें। इससे blog खूब-ब-खुद पनपने लगेगा। इसमे अनेक social media sites शामिल होती है।

3-  Post का URL

post का URL जितना छोटा होगा, इसे अन्य जगहों तक पहुंचाना और पढना दोनों आसान होगे। ऐसी sites की कमी नही, जो URL को छोटा कर देती है।

4-  States के अनुकूल

कई बार blog में आप अपना states ऐसा रखते है, जिसे पढकर कुछ समझना मुश्किल होता है। इससे आपकी post में visitor कम आते है, इसलिए समय-समय पर blog update करते रहे।

5-  Forum से जुड़े

कोई भी online forum आपके लेख को तभी प्रचारित करती है, जब वह उपयुक्त हो। इसलिए दुसरे किसी forum में post साझा करते समय ध्यान रखे कि post उस forum से सम्बंधित है या नही।

6-  Bookmark बनाएं

bookmark sites में post करने से blog की ओर traffic में इजाफा होता है। कुछ bookmark sites है- BibSonomy, Blinklist, BlogBookMark, Diigo,Digg

7-  अन्य Blog पर Comment

दूसरो के blog पर important, सहयोगात्मक comment करना traffic बढ़ाने, सम्बन्ध विकसित करने का बेहतर तरीका हो सकता है, इससे सहयोग और सम्बन्ध बढ़ते है।

8-  Twitter को न भूले

twitter पर सहायता पाने और और सहायता करने की भूमिका में रहे। ईमानदारी से मदद व् अच्छे twit से group को विकसित किया जा सकता है। अपने blog के शीर्षक को बनाएं और अपने post उन लोगो के साथ साझा करे, जो सहयोग मांग रहे है।

9-  Email से जुड़ें

अपने हर email की नीचे thanks and regards के बाद अपने नाम यानी signature के बाद अपने blog का link जरुर डाले।

10- Target Readers का ध्यान

आपको पता होना चाहिए कि web पर आपके blog के पाठक कौन है और कहां है। उन तक अपनी post पहुँचाने का हर संभव प्रयास करें।

11- E-Newsletter

अगर आपके पास e-newsletter जैसी कोई सेवा है तो उसमे भी अपने blog को प्रचारित करने में कोई कसर न छोड़े। इससे आपके blog का दायरा बढ़ेगा।

12- दूसरे Bloggers

अपने प्रभावी क्षेत्र में दूसरे blogs के साथ सम्बन्ध विकसित करे, ताकि वे भी समय-समय पर आपके post को बढ़ावा दें।





Current GK February 2018 Part-1

1 January 1-       1 जनवरी, 1995 को स्वीटजरलैंड में विश्व व्यापार संगठन (WTO) की स्थापना हुई थी । 2-       1 जनवरी, 1894 को kolk...